Wednesday, March 26, 2014

दलालों ने बदली कालाहांडी की तस्वीर


                                                      अखिलेश अखिल
समाज में दलाल और दलाली को हिकारत की नजर से भले ही देखा जाता हो, लेकिन जब दलाल किसी समाज और ब्यवस्था की काया पलट कर दे तो इसे आप क्या कहेंगे। जी हां, केबीके के नाम से दुनिया में बदनाम उडीसा का कालाहांडी,बोलांगीर और कोरापुट जिले पिछले पांच सालों में विकास की नई इबारत लिख रहे है। हालाकि इस विकास की कहानी  में सरकार की नीति, सरकारी पहल, किसान किसानी व सिंचाई के लिए  बेहतर ब्यवस्था  और साथ ही किसानों की सोंच में आई तब्दिली  की काफी अहमियत  हैं। लेकिन इन सबसे उपर इस इलाके की तकदीर बदलने में दलालों की भूमिका को कमतर नहीं आंका जा सकता। आइए आपको ले चलते हैं देश में भूखमरी के लिए अभिशप्त कालाहांडी के भूगोल पर जहां अब  कंगाली नहीं हर जगह हरियाली है ,  रूदन के स्थान पर मंगल गीत गाए जा रहे हैं और लगभग हर घर में टीवी, फ्रीज, रेडियों, डिश एंटिना साइकिल के बदले मोटरसाइकिल और नंग धरंग बच्चें और अधनंगे बुढे चमचमाते कपडों से लैश हैं। मानों  पूरा का पूरा कालाहांडी मुस्कुरा रहा हो।
 कालाहांडी की  ये जो  बदली तस्वीर हम आपको दिखा रहे हैं इसमें दलालों की बडी भूमिका है। कालाहांडी के हर गांव में पलायन एक कुटीर उद्योग का रूप ले चुका हैं। जब से छत्तीसगढ राज्य बना तब से ही कालाहाडी की तस्वीर बदल गई। दाने दाने के मोहताज और बात बात में गुलामी के शिकार हो रहे बच्चें और महिलाओं के लिए छत्तीसगढ ने रोजगार का द्वार खोल दिया। रोजगार सामने आए तो दलालों का नेटवर्क शुरू हुआ और देखते देखते कालाहांडी के हर गांव और बाजार में दलालों के आफिस खुल गए। रोजगार के अवसर मिले तो गांव से लोगों का पलायन शुरू हुआ और देखते ही देखते लोगों की रंगत बदने लगी। आमदनी बढी तो भोजन मिलना शुरू हुआ , पचके गाल और पेट फुलने लगे , नंगा शरीर कपडों से ढकने लगा , बच्चे स्कूल जाने लगे और लाख सूखा पडने के बावजूद लोगों को फिर भूख का डर नहीं रह गया।
      आइए ये है कालाहांडी का जिला हेड क्वार्टर भवानीपटना। आज से पांच साल पहले गरीबी और दरिद्रता का साक्षातकार लेने के लिए जब कोई खबरची या फिर कोई गैर सरकारी संगठन भवानी पटना उतरते थे तो पता नहीं चलता ािा  िकवे किसी शहर में आए हैं। खेतों में सुखार और भूख से तडपते ,भागते बच्चे, बुढे और नौजवान यही दिखाई पडता था। इसी भवानी पटना स्टेशन पर भूख से बिलखती महिलाओं और लकडी चवाते बचचों की तसवीर को खीचकर विदेशी पर्यटकों देश दुनिया में कालाहांडी के सच को उजागर तो किया ही साथ ही इस तरह की बेवस  भरी तस्वीर को बेचकर भारी रकम भी कमाया।  लेकिन आज यह भवानीपटना बदल गया है। भवानी पटना की सटेशन की वही दुकाने अब सज संवर गई है । नंग धरंग महिलाएं और बचचे अब दिखाई नहीं पडते। अब जान बचाने के लिए भागते लोगों की हुजुम दिखाई नहीं पडती। इसी भवानीपटना में कभी लोग अनाज के बदले बिक जाते थे लेकिन आज यहां मजदूरों को नौकरी दिलाने वाले दलालों और एजेंसियों की भरमार है।  हालाकि पलायन यहां की नियति है लेकिन उसी पलायन ने अब कालाहांडी को हरा भरा कर दिया है।  भवानी पटना के पंचायत अरतल,बोरभाटा,चांचर या फिर केंद्रपती चले जाएं कही आपको बेवसी नहीं मिलेगी। चांचर के अधिकतर लोग छत्तीसढ में काम कर रहे हैं। रिक्शा चलाने से लेकर सडक बनाने और फैकअरियों में काम करने से लेकर रायपुर और राजनादगांव में  चुलहा चैका तक का सारा काम इसी चांचर और बोरभाटा के लोगों ने सम्हाल रखा है। हालाकि गांवों में लागों की आज भी कमी है लेकिन जो लोग धर पर है भी वे केला की खेती करके अपने और गांव को भी खुशहाल किए हुए है। कालाहांडी का ही एक ब्लाक है लांजीगढ । लांजी गढ के बेनगांव, भर्तीगढ,गुंडरी और लांजी गांव तो अब पहचान में आते ही नहीं । हालाकि इन गावों में आज भी  पलायन के कारण सन्नाटा पसरा हुआ  लेकिन लेकिन गांवों में बजते मोबाईल औा साइकिल पर स्कूल जाती लडकियों और लडकों को देखकर लगता है कि यह कालाहांडी का गांव ही नही है। इन गांवों में केवल और उिश टीवी हर घर में लग गई है। परचुन की दुकाने है तो जिसमें मनिहारी और सौंदर्य प्रसाधन के सामान भी ।   कालाहांडी के पूरे इलाके में युवाओं के बीच एक नई सोंच विकसित हो गई हैं । बार बार और हर बार सूखा पडने से खेती बारी करने को कतई तैयार नही है । दूसरे राज्यों और शहरों में जाकर वह हर छोटा मोटा काम करने को तैयार है लेकिन खेती के भरोसे जीने को तैयार नही है। बलसिंगा के रूपन का कहना है कि खेती में अब कुछ नहीं रह गया। दलालों के जरिए हमें काम मिल जाता है और दिहाडी 200 से ज्यादा की हो जाती है। मंडेल गांव के बिरछी की सोंच हलाकि कुछ अलग है लेकिन बिरछी साफ कर देता है कि जब से गांव के लोग बाहर कमा रहे हैं तब से भूखे मरने की नौबत नही रही। दलालों ने इन्हें छत्तीसगढ, मघ्यप्रदेश और लेह लद्दाख से लेकर कश्मीर तक काम करने की जमीन तैयार कर दी है । इसके अलावा कालाहांडी को संवारने में सरकार भी बडे स्तर पर जुटी हुई है।  सूखा से परेशान कालाहांडी को जीवित करने में केला रामबान साबित हो रहा है। सरकारी मदद और किसानों में इस केले की खेती के प्रति ललक ने कालाहांडी की तस्वीर को बदल दिया है। अभी सिर्फ कालाहांडी में ही 12000 हेक्टेयर में केले की खेती हो रही है और साल में इससे किसान एक लाख रूपए तक की आमदनी कर रहे हैं। किसानों को इसके लिए बैंक लोन दे रही है और साथ ही सब्सिडी भी । इस तरह से केले की खेती और दलालों ने पूरे कालाहांडी की तस्वीर बदल दी है।  
     गरीबी, शोषण और भूख से हाने वाली मौतों के लिए बदनाम रहे उडीसा के  कालाहांडी की तसवीर  अब बदल गई हैं । यहां अब भूख से मौतें नहीं होती या यूं कहे कि पिछले आठ सालों में भूख से मौत की मात्र तीन खबरें सामने आई है। इन खबरों के बाद  जब सरकारी जांच  हुई तो भूख से हुई मौत की पुष्टि नहीं हो पाई।   भूख से बिलबिलाते बच्चों को देखकर पहले इसी कालाहांडी में मां बाप  अपने बच्चों को बेचते रहे हैं। राजीव गांधी जब प्रधानमंत्री थे एक मन बाजरे में दो बच्चे यहां बिके थे । इस खबर से परेशान होकर राजीव गांधी ने कालाहांडी की यात्रा की थी और दशकों पुरानी कालाहांडी की सच्चाई को जाना था। राजीव गांधी के प्रयासों और अब केंद्र और राज्य सरकार की योजनाओं का भरपूर फायदा कालाहांडी को मिल रहा है। हालाकि कालाहांडी अभी भी शेष भारत के विकास से कोसों दूर है लेकिन अब कालाहांडी के विकास का पहिया घूम चुका है। कालाहांडी में आज भी सूखे का प्रकोप दिखाई पड सकता है लेकिन यकिन मानिए अब वहां भूख से लाशें नहीं बिछती और बचपन नही बिकते।  

No comments:

Post a Comment