Tuesday, July 12, 2016

सुनिए जी! इंदिरा इज बैक इन उत्तरप्रदेश



अखिलेश  अखिल
उत्तरप्रदेश  के चौक  चैराहों पर तो यही लिखा है- इंदिरा इज बैक। घबराने की जरूरत नहीं है। इंदिरा गांधी की हत्या तो 1984 में में ही कर दी गई थी। 1971 के पाक-भारत युद्ध के समय पूर्व प्रधानमंत्री अटलविहारी वाजपेयी ने हीं इंदिरा को ‘दुर्गा’ कहा था। इसी युद्ध के बाद पूर्वी पाकिस्तान बंाग्लादेष बन गया । लेकिन इन बातों से आज की राजनीति का क्या मतनलब? मतलब यही है कि लगातार राजनीतिक खेल में मात खा रही कांग्रेस को अपना अंतिम अस्त्र चलाने को वाध्य होना पड़ गया है। इंदिरा की प्रतिरूप उनकी पोती और पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की बेटी प्रियंका पूरी तैयारी के साथ राजनीति करने आ रही है। यह डूबती कांग्रेस का उद्धार करेगी। उसे कायाकल्प करेगी और देष की राजनीति में कांग्रेस की राजनीति को स्थापित करेगी। खबर तो यह भी है कि वह रायबरेली से चुनाव भी लड़ सकती है और जरूरत हुई तो वह उत्तरप्रदेष चुनाव में पार्टी का चेहरा भी बन सकती है। चेहरा बोले तो सीएम उम्मीदवार। 
      लखनउ चले जाइए और राय बरेली से लेकर अमेठी के गली चैराहों का मुआइना की आइए तो जिस लकदक के साथ प्रियंका की तस्वीरों वाली होर्डिंग्स लोगों का आकर्षित कर रही है अपने आप में अजूबा है। इससे पहले कभी भी प्रियंका की तस्वीरें चुनावी नाटक नौटंकी के लिहाज से प्रदर्षित नहीं की गई थी। लेकिन अब प्रियंका बोल रही है । प्रियंका मुस्कुरा रही है और प्रियंका अपना संदेष साफ साफ दे रही है। प्रियंका की अलग अलग मूड््स की तस्वीरें यूपी की जनता में अकुलाहट पैदा कर रही है ।
     खबर है कि कांग्रेस के भीतर अब पूरी तरह से प्रियंका को राजनीति में सीधा उतारने की रणनीति तैयार हो गई है। प्रियंका को लेकर कई तरह की विज्ञापन सामग्रियां तैयार हो गई है। सूत्रों के मुताविक अगले एक सप्ताह में प्रियंका को लेकर कांग्रेस अपना पत्ता खेल सकती है। कांग्रेस के भीतर इस बात की पूरी तैयारी कर ली गई है कि प्रियंका राय बरेली से चुनाव भी लड़ेगी और 200 से ज्यादा सीटों का चुनाव प्रबंधन भी करेंगी। 
     प्रियंका की पूरी ब्रांडिंग इंदिरा गांधी की छवि के रूप में की जानी है। कोषिष की जा रही है कि प्रियंका को रावर्ट वाड्ा की हर खेल से अलग रखा जाए। वैसे भ्ज्ञी प्रियंका की छवि पाक साफ है और कांग्रेस को उम्मीद है कि प्रियंका इंदिरा की दुर्गा वाली छवि के साथ ही अपनी वाक पटुता से युवा वोटरों के साथ ही महिलाओं को अपनी ओर खींचने में सफल होगी। प्रषांत किषोर इसके लिए कई रणनीति पर काम कर रहे हैं । अभी कांग्रेस ने जो तैयारी की है उसके मुताविक युपी चुनाव में कम से कम 80 से ज्यादा सीटें जीतने की रणनीति है।  कांग्रेस की पूरी राजनीति ब्राम्हण, दलितों और मुसलमानों को एक मंच पर लाने की है। यह वोट बैंक कांग्रेस का ऐतिहासिक राजनीतिक आधार  रहा है।
     यूपी के कई जगहों पर इंदिरा इज बैंक नारों के साथ प्रियंका की लगी तस्वीरें यूपी की राजनीति में किसी हलचल से कम नहीं। हार जीत की कहानी चाहे जो ीज्ञी हो लेकिन इतना तो तय है कि प्रियंका यूपी के वोटरों पर छाप छोड़ेगी और किसी भी दल की राजनीति को प्रभावित भी करेगी। अगले सप्ताह तक प्रियंका की जिम्मेदारी के साथ ही कुछ उम्मीदवारों के नाम की घोषणा भी कांग्रेस कर सकती है। कहा जा रहा है कि प्रियंका की संभावित राजनीति को देखते हुए ही अब तक कांग्रेस से टिकट लेने वालों की सूची  9 हजार से पार कर गई है। यह सब इंदिरा इज बैक का ही कमाल है।

No comments:

Post a Comment