Sunday, June 4, 2017

पूनम पांडेय बनी चांदनी हुसैन लेकिन शाहनवाज ने इन्साफ नहीं दिया


अखिलेश अखिल 
आज पूनम पांडेय उर्फ़ चांदनी हुसैन स्वराज खबर  दफ्तर  पहुंची। शाहबाज हुसैन के साथ हुए  निकाह से जुड़े तथ्य , दोनों के बीच हुयी कुछ बातचीत की  रिकॉर्डिंग और  धर्म परिपर्तन से जुड़े कागजात स्वराज खबर को मिले।  चाँदनी ने कुछ वीडियो क्लिपिंग भी स्वराज खबर दफ्तर को दिया।  बीजेपी नेता शाहनवाज़ हुसैन के  छोटे भाई शाहबाज हुसैन और पूनमपांडे उर्फ़ चांदनी के बीच हुयी तल्ख़ बातचीत की रिकॉर्डिंग भी सुनने को मिला।   उस रिकार्डेड   बातचीत  में चांदनी बार बार कह रही थी कि तुम मेरे पति हो या नहीं।  शाहबाज कह रहे थे कि मैंने एक दिन के लिए निकाह किया था बस। जहां  जाना है जा सकती हो। इसके बाद दोनों के बीच तरह तरह की भद्दी गालिओं की बौछार चलती रही।
     पूनम पांडेय उर्फ़ चांदनी से स्वराज खबर ने लम्बी बातचीत की।  पेश है बातचीत के कुछ अंश -----
 आपकी मुलाक़ात शाहबाज हुसैन से कैसे हुयी ?

     मैं एक एनजीओ से जुडी हूँ।  कुछ काम के सिलसिले एक महिला के जरिये ही हमारी मुलाक़ात शाहबाज से हुयी।  हमारी मुलाक़ात दिल्ली स्थित पंत रोड पर स्थित शाहनवाज हुसैन के आवास पर हुयी थी।  शाहबाज ने कहा था कि मेरा काम वह करा देगा। 

     फिर क्या हुआ ?

    फिर हम लोग काम के सिलसिले में ही लगातार मिलते रहे। वह  हमारे गोल मार्केट स्थित घर पर भी आने लगा।  मैं  भी कई दफा उसके घर गयी।  हमारी मुलाकातें बढ़ती गयी। फिर शाहबाज हमसे प्यार जताने लगा। कहने लगा कि वह मुझसे शादी करेगा। मैं उसके झांसे में  आ गयी।  और इस तरह शादी के नाम पर चार साल तक मेरे साथ बलात्कार करता रहा। 

      आप खुद कह रही हैं कि आप दोनों शादी को लेकर रजामंद थे फिर बलात्कार कैसे ?

       जबतक हम शादी के झांसे में थे तब तक सबकुछ ठीक था।  मैंने पूरा साथ दिया था।  लेकिन जब मुझे धोखा दिया तब उसे क्या कहा जाए ? उसने मेरा शोषण और बलात्कार ही तो किया।
      आपको कब लगा कि शाहबाज आपको धोखा दे रहा है ?

      पिछले साल हमने इस पर शादी करने का दबाब कुछ ज्यादा ही डाला। इसके भाई और बीजेपी नेता शाहनवाज हुसैन से भी इसकी शिकायत की।  उसने कहा कि  हम सब ठीक कर देंगे।  बिहार चुनाव हो जाने दो हम शादी करा देंगे।  लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ।  मैं काफी परेशान हो गयी थी। कई बार शाहनवाज से मिलने के बाद भी जब मेरी शादी नहीं हुयी तब मुझे महिला आयोग और पुलिस में जाना पड़ा। 

यानी कि शाहबाज और आपके सम्बन्ध के बारे में शाहनवाज को जानकारी थी ?

हां विल्कुल थी। और आज भी है। शाहनवाज कहते थे कि मुसलमान में चार शादी करने का रिवाज है।  सब हो जाएगा।  बाद में वह धमकाने भी लगे ।  कहते थे कि अब ये सारे मामले ख़त्म कर सब भूल जाओ।  अगर कुछ करोगी तो उसका कोई लाभ नहीं होगा। कुछ पैसे लेने हो तो ले लो। मैंने इंकार किया।  लगा मैं ठगी गयी। मेरी इज्जत बर्बाद हो गयी।  मुझे कही का नहीं छोड़ा। और बीजेपी नेता शाहनवाज ने भी हमें न्याय नहीं दिया।  

    लेकिन आपको शारीरिक सम्बन्ध तो नहीं बनाने चाहिए थे ? 

आज मैं लज्जित हूँ।  लगा था कि शादी करके मैं खुश रहूंगी। शाहनवाज ने  भी तो हिन्दू लड़की के साथ  किया है। मैं  शाहबाज के प्रेम जाल में फस गयी थी।  

    आप एक हिन्दू परिवार से आती हैं आपको ये रिस्ता जायज लगा था ?

    मैं दिल्ली में ही पढ़ी लिखी हूँ।  थोड़ी समझ मुझे भी है।  लेकिन तब ऐसा लगा था कि कई हिन्दू लडकियां मुस्लिम के साथ शादी करके रह सकती है तो मई क्यों नहीं।  फिर कुछ हालात भी ऐसे ही बन गए थे की हम इसके साथ रहने को तैयार हो गए।  

    तो फिर आपकी शादी हुयी ?

   मैंने दिल्ली महिला आयोग में इसकी शिकायत की थी।  आयोग ने पुलिस को पत्र लिखा था।  पुलिस के दवाब में यह शादी करने को तैयार हुआ।  वही मंदिर मार्ग के एक पार्क में मौलबी को बुलाया गया। धर्म परिवर्तन किया गया।  मेरा नाम चांदनी हुसैन रखा गया और फिर निकाहनामे पर दस्तखत कराया गया।  इस दौरान इन लोगों ने मुझे कुछ पीला भी दिया था।  फिर हमें अकेला छोड़कर ये सब भाग गए। होश में आने के बाद मैं शाहबाज के जसोला स्थित घर पर गया जहा इसकी पहली पत्नी लामा और शाहबाज की सास और शाहबाज  ने हमें मारकर निकाल दिया।
लेकिन आपको धर्म परिवर्तन तो नहीं करना चाहिए 
   
      मैं इसके पक्ष में नहीं थी  ।  मैंने कहा था कि चार साल से मै तुम्हारे साथ हु फिर धर्म परिवर्तन क्यों ? लेकिन वे लोग नहीं  माने।  लेकिन जब हमें अपनाने से इंकार कर दिया तब तो मैं कही की नहीं रही। हम तो बर्बाद हो गए। 
      फिर आगे क्या करेंगी ?

हक़ की लड़ाई तो लड़ूंगी।  अपने इज्जत का बदला तो मैं  लुंगी  . राष्ट्रपति से लेकर परधानमंत्री तक गुहार लगाउंगी।  मेरी इज्जत तो वापस नहीं आ सकती लेकिन इसे दंड दिलाऊंगी। 

       

No comments:

Post a Comment