Thursday, March 29, 2018

हे मोदी जी ! सरकार लीक कर रही है , मरम्मत मंत्रालय बनाइये

अखिलेश अखिल 
पीएम मोदी के लिए यह असह्य काल है। मन भी भारी होगा और इस ठग बेईमान लोगों के बारे में भी उनकी धरना बन रही होगी। वह यह भी समझ रहे होंगे कि समाज में एक बड़ा तपका ऐसा भी है जिनका परिवार दलाली ,ठगी। घूसखोरी और जालसाजी से ही चलती है। चाहे सरकार किसी की रहे। जब नेता झूठ बोलना नहीं छोड़ सकते तो जालसाज भला अपना पेशा कैसे छोड़े ! फिर चोर चोर मौसेरा भाई। सच यही है कि भारत में चोरी करना और कराना राष्ट्रीय कर्म बन गया है। कोई प्रदेश इससे अछूता नहीं और ना कोई समाज। लीक सब पर भारी। लीक से सरकार परेशान। ऐसे में जरुरी है कोई मरम्मत मंत्रालय बनाने की। मोदी जी ने कई प्रयोग किये हैं। कई चीजे बदली हैं। मरम्मत मंत्रालय बन जाए तो बेहतर होता। इस मंत्रालय का काम हर लीक का मरम्मत करना होगा। अब लोग पूछने लगे हैं कि पीएम मोदी ने एक्साम वारियर किताब के जरिए छात्रों को पढ़ाई को चिंतामुक्त करने का उपदेश दिया था। बहुत सारे छात्रों ने उस किताब का मनन किया। लाभ मिला। निडर होकर परीक्षा देने गए। लेकिन जब पेपर लीक का मामला सामने आया तो एक्साम वारियर पर ही सवाल उठने लगे। छात्र कहने लगे हैं कि यह लीकेज सरकार है। पीएमजॉढ करें कोई मरम्मत मंत्रालय का गठन। 
 सीबीएसई की 10वीं और 12वीं के पेपर लीक होने की घटना ने लोगों की सब्र का बांध तोड़ दिया। परीक्षा में शामिल हुए परिक्षार्थियों और उनके अभिभावकों को एक बार लगा कि हमने कैसी सरकार चुन ली है जो बातें तो लंबी फेंकती है पर काम वह टके भर नहीं कर पाती, एक पर्चा तक नहीं संभाल पाती। इससे पहले एसएससी का पर्चा लीक होने को लेकर देशभर में आंदोलन चल रहे हैं तो डाटा लीक के मामले में सरकार की सदन से सड़क पर थू—थू हो रही है।
        पूर्वी दिल्ली के एक नामी स्कूल में पढ़ने वाली एक छात्रा ने बताया कि जो इकोनॉमिक्स का पेपर मुझे एक दोस्त ने वाट्सअप पर भेजा था, हू—ब—हू वही पेपर परीक्षा में आया। ये बात पिछले कुछ दिनों से मीडिया में भी थी और कुछ स्कूलों के प्रबंधन ने भी सीबीएसई को आगाह किया था पर सीबीएसई ने एक नहीं सुनी। इस मामले में सीबीएसई बगलें झांकने लगा जब छात्रों ने हंगामा कर दिया कि यह पेपर तो पहले से उनके पास आ गया था। हंगामे के बाद  बोर्ड ने 10वीं की बुधवार को हुए गणित और सोमवार को हो चुके 12वीं इकोनॉमिक्स के पेपर को रद्द कर दिया है अब इन पेपरों को छात्र दुबारा देंगे। हालांकि 13 दिन पहले लीक हुए 12वीं के अकाउंट के पेपर की कोई चर्चा नहीं है।
       छात्रों की बात कौन कहे। आमलोग भी अब चिल्लाने लगे हैं। लोग कह रहे हैं कि कितने-कितने लीक! डेटा लीक, आधार-लीक, चुनाव की तारीखें लीक और अब सीबीएसई के पेपर्स लीक! क्यों न एक नया मंत्रालय बनाया जाय, 'लीकेज-निरोध मंत्रालय!' एक पत्रकार ने इस लीक पर बहुत ही लंबा चौरा भाषण भी लिखा है। मजेदार है। खैर! पर्चा लीक होने की घटना कोई नई बात नहीं है, क्योंकि पिछले पखव़ाड़े भर से लगातार एक के बाद एक लीक कर रही है। सोशल मीडिया पर लोग लिखने लगे हैं कि अबकी बार लीकेज सरकार। पर्चा लीक होने को लेकर सोशल मीडिया परएक सज्जन लिखते हैं, 'डेटा लीक, चुनाव के तारीख लीक, सीबीएसई के 10वीं, 12वीं के पेपर लीक! क्यों न सरकार एक प्लम्बर मंत्रालय बना ले, जो लीकेज रोकने के लिए हो।'
          गौरतलब है कि जब से परीक्षाएं डिजिटलाइजेशन यानी आॅनलाइन होनी शुरू हुई हैं पहले के मुकाबले पर्चा लीक करना आसान हो गया है। पहले जहां एक पर्चा एक सेंटर या एक शहर में ही लीक हो पाता था, अब अब व्हाटसअप, फेसबुक आने के बाद से यह बच्चे—बच्चे तक आसानी से पहुंच जा रहा है। बीजेपी राज में लगातार घोटालों, डेटा लीक, एसएससी पेपर लीक और अब सीबीएसई के पेपर लीक पर एक नेता कहते हैं, 'नोटबन्दी से कुछ दिन पहले राजस्थान के बीजेपी विधायक की बेटी के हाथ में 2000 की गड्डी वायरल हुई, उसके बाद नोटबन्दी हुई। कोई जाँच नहीं हुई। अब चुनाव की तिथि बीजेपी चमचों ने वायरल कर दी, चुनाव आयोग मस्त! डेटा लीक, डेट लीक, एसएससी पर्चा लीक, सीबीएसई  के पेपर्स लीक। लगता है इस बार इस देश की जनता, संघियों व बीजेपी के सारे लीकेज एक झटके से बन्द करने वाली है आगामी चुनावों में। तब याद आयेगा इन्हें चुलबुल पाण्डे का वो डायलॉग कि साँस कहा से लूँ और लीकेज कहाँ से करूं।'
            एक के बाद एक संवेदनशील और महत्वपूर्ण मामलों की लीक होने की घटनाओं से साफ हो गया है कि अपने को सबसे ताकतवर और कड़े निर्णयों वाले प्रधानमंत्री साबित करने की जोर आइमाईश में लगे मोदी असल में बड़बोले ही हैं। अन्यथा ऐसा कैसे होता कि उनकी नाक के नीचे एक से बढ़कर सरकार को फेल कर देने वाले कांड होते और वह चुप्पी साधे रहते।

No comments:

Post a Comment