Thursday, March 29, 2018

अमेठी की जनता में धाक जमाती ईरानी, सारी के बाद गाय बांटने की तैयारी

अखिलेश अखिल 
अमेठी कोलेकर राजनीतिक रार जारी है। गांधी परिवार से जुड़ा अमेठी कब बीजेपी के पास चला जाय कहना मुश्किल है। अमेठी से राहुल गाँधी सांसद हैं। लेकिन यह अमेठी अब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का भी हो गया है। लेकिन पिछले सालों से अमेठी का मिजाज बदला है। वहाँ की जनता की सोच बदली है और कांग्रेस के खिलाफ बहुत सारे लोग उठ खड़े हुए हैं। वजह चाहे जो भी हो लेकिन अगले लोक सभा चुनाव में अमेठी रणभूमि बनने वाला है। बीजेपी की नेता और केंद्रीय सुचना प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी की नजर अमेठी पर जम गयी है। ईरानी पिछले 2014 के चुनाव में भी राहुल के विरोध में कड़ी हुयी थी और कडा मुकाबला दिया था। यह बात और है कि ईरानी राहुल से हार गयी लेकिन ईरानी को अमेठी में संभावना भी दिखी। अब वह फिर से अमेठी की तैयारी कर रही है। राहुल गाँधी को टक्कर देने के लिए। 
      स्मृति ईरानी टीवी कलाकार रही है और बीजेपी की राजनीति में भी उसकी अलग पहचान है। वह खूब बोलती हैं और तर्क भी रखती हैं। हिंदी और अंग्रेजी पर सामान अधिकार है और राजनीतिक मुद्दों की अच्छी समझ भी। ईरानी अमेठी में लगातार सक्रीय बानी हुयी है। अब ताज़ा ख़बर ये है कि अमेठी के ग़रीब परिवारों को ईरानी 10 हजार गायें वितरित करने वाली हैं। खबर के मुताबिक अमेठी के पांचों विधानसभा क्षेत्रों से दो-दो हजार ग़रीब परिवारों को एक-एक गाय दी जाएगी ताकि वे उसके ज़रिए वे अपनी आजीविका का बंदोबस्त कर सकें। फिलहाल भाजपा के कार्यकर्ता विभिन्न क्षेत्रों से ऐसे ग़रीबों की पहचान के काम में लगे हैं। इस काम में नर्मदा फ़र्टिलाइजर्स नाम की कंपनी के प्रतिनिधि भी भाजपा कार्यकर्ताओं की मदद कर रहे हैं। 
        बताया जाता है कि नर्मदा फ़र्टिलाइज़र्स की ओर से ही कॉरपोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी के तहत ग़रीबों को वितरित करने के लिए गायें ख़रीदी जा रही हैं।  इन्हें ईरानी की आगामी अमेठी यात्रा के दौरान वितरित किए जाने का कार्यक्रम है।  ग़ौरतलब है कि इससे पहले ईरानी ने बीती मकर संक्रांति पर क्षेत्र के लोगों के बीच मिठाई बंटवाई थी।  जबकि पिछले साल दिवाली पर महिलाओं को साड़ियां दी गई थीं। अमेठी में ईरानी की सक्रियता राहुल गांधी के लिए परेशानी बढ़ाने जैसा है। 

No comments:

Post a Comment