Monday, April 2, 2018

ये हैं पाकिस्तान की 'महिला पलटन' लेगी आतंकियों से लेगी सीधी टक्कर

अखिलेश अखिल 
पाकिस्तानी आतंकवाद से भारत परेशान है और अपने देश के आतंकी से पकिस्तान भी कम दहशत में नहीं है। आतंकियों को पनाह देने वाला पाकिस्तान अब अपने ही आतंकी दंश का शिकार है। यही वजह है कि अब पाकिस्तान इन आतंकवादियों से लोहा लेने के लिए गुपचुप तरीके से एक महिला पलटन तैयार कर रहा है जो आतंकियों से लोहा लेगा । खबर है कि पाकिस्तान सरकार वहां की महिलाआें की एक एेसी पलटन तैयार कर रही है, जो आतंकवादियों से लोहा लेने में कोर्इ कसर बाकी नहीं छोड़ेंगी। पाकिस्तान से प्रकाशित होने वाले अंग्रेजी अखबारों में प्रमुख डाॅन में प्रकाशित एक समाचार के अनुसार, आतंकवादियों से लोहा लेने के लिए अब पाकिस्तान की महिलाएं भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लेने लगी हैं।  इस खबर में यह कहा गया है कि पाकिस्तान सरकार की आेर से बीते जनवरी महीने में आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवार्इ करने की खातिर इस्लमाबाद में काउंटर टेररिज्म फोर्स (सीटीएफ) का गठन किया गया है।  सरकार की आेर से गठित सीटीएफ में करीब 386 पुरुषों के साथ 23 महिलाआें को भी आतंकवादियों से लोहा लेने के लिए प्रशिक्षण दिया जा रहा है। 
             खबर में इस बात का जिक्र किया गया है कि पाकिस्तान सरकार की आेर से नेशनल एक्शन प्लान (एनएपी) के तहत सीटीएफ का गठन किया गया था। एनएपी में करीब 970 अधिकारी काम करते हैं, जिसमें करीब 76 पद महिलाआें के लिए आरक्षित किया गया है। डाॅन की खबर में कहा गया है कि सीटीएफ में 23 महिला अधिकारियों को पहले बैच में प्रशिक्षण देकर आतंकवादियों के खिलाफ छेड़े जाने वाले अभियान में शामिल करने के लिए तैयार किया गया है।  इसके अलावा, प्रशिक्षण के दूसरे बैच में करीब 25 महिलाआें को शामिल किया गया है।  इन महिलाआें को एनपीए में शामिल अधिकारियों की आेर से प्रशिक्षण दिया जा रहा है। ये सभी प्रशिक्षित महिलाएं जल्द ही सैनिक के रूप में कमान संभाल कर आतंकियों से टक्कर लेंगी। 
  खबर के मुताविक आतंकवादियों के खिलाफ सरकार की आेर से महिलाआें की जो पलटन तैयार की जा रही है, उन महिलाआें को इंटेलीजेंस ब्यूरो की आेर से बेदियां स्थित एलीट ट्रेनिंग स्कूल आैर स्पेशल सर्विस ग्रुप (एसएसजी) द्वारा विशेष रूप से प्रशिक्षित किया जा रहा है।  इस दौरान उन्हें छोटी मशीनगन, पिस्तौल आदि हथियारों से लैस होकर कार्रवाइयों, छापों अथवा सुरक्षा ड्यूटी के दौरान काम करने का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। 

No comments:

Post a Comment